9251272715 : 9929789442 : | Add Reviews | Get Direction

24*7 Helpline

9251272715

प्लास्टिक सर्जरी के फायेदे व नुकसान

प्लास्टिक शस्त्रक्रिया का मतलब है टूटने से या खराब हुए हुए जले हुए या पूरे ना बढ़े हुए शरीर के हिस्से को ठीक करना या फिर नया हिस्सा बनाना। उसे प्लास्टिक सर्जरी कहते हैं। पर इस प्लास्टिक का  सर्जरी में प्लास्टिक का उपयोग बिल्कुल नहीं किया जाता।  इसमें शल्य चिकित्सा से चेहरा अथवा शरीर की विद्रूपता को हटा सकते हैं। प्लास्टिक सर्जरी में प्लास्टिक यह शब्द ग्रीक भाषा में प्लास्टिको  से आया है। ग्रीक भाषा में प्लास्टिको का मतलब बनाना या तैयार करना होता है। प्लास्टिक सर्जरी में सर्जन शरीर किसी हिससे की त्वचा को या टिश्यू को निकाल कर किसी दूसरे हिस्से पर लगाता है। पहले इसकी पूरी शल्यचिकित्सा में से सिर्फ 1 %  शल्य चिकित्सा के सौंदर्य वर्धन के लिए की जाती थी। लेकिन अब ज्यादा पैमाने पर की जाती है।

जल कर या किसी अन्य हादसे से शरीर की त्वचा अन्य प्रकार के हादसे से शरीर की त्वचा निकलकर अंदर के अवशेष खुले पड़ जाते हैं। तब जीव जंतु बैक्टीरिया या किरणउत्सर्ग का परिणाम त्वचा पर होता है। ऐसा ना हो इसलिए नष्ट हो गई त्वचा की जगह पर उसी व्यक्ति के शरीर की किसी और जगह पर की त्वचा निकालकर वहां चढ़ाते हैं।  कुछ दिनों में वहां त्वचा उसी स्थान पर पूरी तरह से मैच हो जाती है।  और वह अंग पहले जैसा दिखाई देने लगता है।

जब ऐसे काम के लिए हड्डी की जरूरत लगती है तब उसी शरीर के फसली या कूल्हों में से किसीस्थान की हड्डी  या पसलियों मे से, या फर कमर की हड्डियों में से हड़ी का टुकड़ा निकाल लेते हैं। उस टुकड़े को सटीक आकार देकर उचित स्थान पर उसका रोपण करते हैं। उसके बाद उस पर त्वचा चढ़ाई जाती है।  और हड्डी के बीच में चर्बी डाली जाती है। कुछ महीने बाद उसमें खून का बहाव व शुरू होता है। उसके बाद नये टिश्यू का बढ़ना प्रारंभ होता है।  और उस अंग में जान आ जाती है। इंसानी शरीर की विशेषताओं के अनुसार उस शरीर पर उसी शरीर की उसी उसी शरीर की त्वचा चढ़ाने के बाद वहां जीती है और बढ़ाती है। उसके बारे में त्वचा का प्रकार कुछ खून जैसा ही है मतलब मां और बच्चा इनके जैसे अत्यंत करीबी रिश्तेदार की त्वचा एक दूसरे के शरीर पर करीब 3 हफ्ते तक जिंदा रह सकती है।  चमड़ी निकलने के बाद शरीर का बाहर का हिस्सा सफेद सफेद दिखाई पड़ता है। इसीलिए जो हिस्सा हमेशा कपड़ों के नीचे ढका रहे , जैसे  पेट, बाहु , पोटरी त्वचा सजीव है। त्वचा का रक्त पोषण मार्ग बिना तोड़े ,एक जगह से दूसरी जगह को ले जाना पड़ता है।  यह प्रक्रिया 2 से 3 सप्ताह तक चलताने वाली होती है।  कुछ विशेष परिस्थितियों में पेशेंट की  त्वचा के 1 या 2 सतह  ली जाती है। उस वक्त त्वचा शरीर से एकदम अलग करके इस्तेमाल कर सकते हैं। जब त्वचा का पोषण मार्ग ना  तोड़ते हुए त्वचा लगाई जाती है ; तब शरीर के वह दोनों अंग पास पास लाए जाते हैं।  एक अंग की त्वचा निकाल कर दूसरे अंगों को लगाते हैं।  जब वह दूसरी जगह पूरी तरह से ना मिल जाए तब तक उसे प्लास्टर में बांध के रखते हैं। यह 2 से 3 सप्ताह का काल बहुत ही तकलीफ भरा होता है। पर उसके बाद की शल्य चिकित्सा आराम से हो जाती है।  और ज्यादा तकलीफ भी नहीं होती है।

नाक और गला ठुन्नी को सही आकार दिया जा सकता है। चेहरे में बदलाव ला सकते हैं।  स्त्रिया अपने वक्ष और नितंब पर प्लास्टिक सर्जरी करके उनको सुडोल बनाती है।  माइकल जैक्सन नाम की अमेरिकी सिंगर ने 15 बार अपने नाक की प्लास्टिक सर्जरी करवाई थी। कई लोग बड़े हुए वजन को कम करवाने के लिए भी प्लास्टिक सर्जरी करवाते हैं।
Bariatric Surgeon in Bikaner,Colo Rectal Surgeon in Bikaner,Hepatobiliary Surgeon,Burn & Plastic Surgeon at Bikaner,Oncosurgeon at Bikaner

Related Blog

Content
Call Back 1